100+ Best Rahat Indori Shayari {*Full Of Wisdom*}

Rahat Indori Shayari: Here we will provide you with Quotes, SMS, Wishes, Greetings with some best and great collection of Rahat Indori Shayari Which You Can Easily Share With Your Friends And Family.Rahat Indori Shayari

20+ Best Rahat Indori Shayari {*Full Of Wisdom*}

1. Ab hum makaan ka tala lagaane wale hain pata chala hain ki mehmaman aane wale hain.

2. Main parbaton se ladta raha aur chand log,geeli zameen khod kar farhad ho gaye.

3. Ishq ne goothe the jo gajre nukile ho gaye,tere haathon me to ye kangan bhi dheele ho gaye

4. Dosti jab kisi se ki jaaye dushmanon ki bhi raai li jaaye!

5. Ek hi nadi ke hain ye do kinaare doston,dostana zindagi se maut se yaari rakho.

6. Zubaan toh khol nazar toh mila jawaab toh de. main kitni baar lautaa hin mujhe hisaab toh de.

7. Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyu hain, itna darte hain to fir ghar se nikalte kyu hain.

8. Roz patthat ki himayat mein ghazal likhte hain roz shishon se koi kaam nikal padta hai

9. Woh chahta tha ki kasa khareed le mera main uske taj kee keemat laga ke laut aaya!

10. Sahar kya dekhein ki har manzar mein jaale pad gaye aisi garmi hai ki peele 0phool kaale pad gaye

11. सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान रहे,

12. ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे,

13. वो शख्स मुझ को कोई जालसाज़ लगता हैं
तुम उसको दोस्त समझते हो फिर भी ध्यान रहे,

14. मुझे ज़मीं की गहराइयों ने दबा लिया
मैं चाहता था मेरे सर पे आसमान रहे,

15. अंदर का ज़हर चूम लिया, धूल के आ गए
कितने शरीफ लोग थे सब खुल के आ गए,

16. सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवकूफ
सारे सिपाही माँ के थे घुल के आ गए,

17. मस्जिद में दूर दूर कोई दुसरा न था
हम आज अपने आप से मिल जुल के आ गये,

18. सूरज ने अपनी शक्ल भी देखि थी पहली बार
आईने को मजे भी मुक़ाबिल के आ गए,

19. समन्दरों में मुआफिक हवा चलाता है
जहाज़ खुद नहीं चलते खुदा चलाता है,

20. ये जा के मील के पत्थर पे कोई लिख आये
वो हम नहीं हैं, जिन्हें रास्ता चलाता है,

21. aañkh meñ paanī rakho hoñToñ pe chiñgārī rakho
zinda rahnā hai to tarkībeñ bahut saarī rakho

22. ab to har haath kā patthar hameñ pahchāntā hai
umr guzrī hai tire shahr meñ aate jaate

23. bahut ġhurūr hai dariyā ko apne hone par
jo merī pyaas se uljhe to dhajjiyāñ uḌ jaa.eñ

24. Suraj, sitaare, chaand mere saath me rahe, Jab tak tumhare haath mere haath me rahe,
Shaakhon se toot jaaye wo patte nahi hain hum, Aandhi se koi kah de ki aukaat me rahe..

Read More  What is Memorial Day 2019 {Everything You Need To Know}

25. Teri har baat mohabbat mai gawara karke, Dil ke bazaar mai baithe hai khasaara karke,
Muntazir hoon ke sitaaro ki zara aankh lage, Chaand ko chat pe bula lunga ishara karke..

26. Zubaan to khol, nazar to mila, jawaab to de, Mai kitni baar luta hoon mujhe hisaab to
Tere badan ki likhawat mai hai utaar chadaav, Mai tujhe kaise padhunga mujhe kitaab to de..

27. Ek ek harf ka andaaz badal rakha hai, Aaj se humne tera naam ghazal rakha hai,
Maine shaho ki mohabbat ka bharam tod dia, Mere kamre mai bhi ek tajmahal rakha hai..

28. Nayi hawaaon ki sohbat bigaad deti hai, Kabtooro ko khuli chat bigaad deti hai,
Aur jo jurm karte hain itne bure nahi hote, Saza na deke adaalat bigaad deti hai..

29. Ban ke ik hadasa bazaar me aa jayega, Jo nahi hoga wo akhbaar me aa jayega,

30. जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए
दूर हम कितने दिन से हैं, ये कभी गौर किया
फिर न कहना जो अमानत में खयानत हो जाए||

31. अब हम मकान में ताला लगाने वाले हैं
पता चला हैं की मेहमान आने वाले हैं||

32. Ab hum makaan ke tala lagaane wale hain
Pata chala hain ki mehaman aane wale hain

33. आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो
राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें
रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो||

34. घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

35. हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

36. मैं ने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया
इक समुंदर कह रहा था मुझ को पानी चाहिए

37. गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम क्या क्या हैं
में आ गया हु बता इंतज़ाम क्या क्या हैं
फ़क़ीर, शाह, कलंदर, इमाम क्या क्या हैं
तुझे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या हैं||

38. ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे

39. मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ
यहाँ हमदर्द हैं दो-चार मेरे

40. मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता
यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी

41. सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें
शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे की औकात में रहें||

42. हर एक हर्फ़ का अंदाज़ बदल रखा हैं
आज से हमने तेरा नाम ग़ज़ल रखा हैं
मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया
मेरे कमरे में भी एक “ताजमहल” रखा हैं||

Read More  What is Palm Sunday 2019 {Everything You Need To Know}

43. कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं

44. ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं

45. मिरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे
मिरे भाई मिरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले

46. न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा

47. मैं पर्बतों से लड़ता रहा और चंद लोग
गीली ज़मीन खोद के फ़रहाद हो गए

48. मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे

49. नए किरदार आते जा रहे हैं
मगर नाटक पुराना चल रहा है

50. रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

51. वो चाहता था कि कासा ख़रीद ले मेरा
मैं उस के ताज की क़ीमत लगा के लौट आया

52. ये हवाएँ उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन
दोस्तो मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो

53. ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे
नींद रक्खो या न रक्खो ख़्वाब मेयारी रखो

54. बोतलें खोल कर तो पी बरसों
आज दिल खोल कर भी पी जाए

55. दोस्ती जब किसी से की जाए
दुश्मनों की भी राय ली जाए

56. एक ही नद्दी के हैं ये दो किनारे दोस्तो
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो

57. रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है

58. शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे

59 उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है
राहत इंदौरी शायरी लिरिक्स

60. जवानिओं में जवानी को धुल करते हैं
जो लोग भूल नहीं करते, भूल करते हैं

61. अगर अनारकली हैं सबब बगावत का
सलीम हम तेरी शर्ते कबूल करते हैं
राहत इन्दौरी शेर

62. आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो

63. अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है
उम्र गुज़री है तिरे शहर में आते जाते

64. बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ

65. बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए

66. bīmār ko maraz kī davā denī chāhiye
maiñ piinā chāhtā huuñ pilā denī chāhiye

67. Add To Favorites Share this See Ghazal
botaleñ khol kar to pī barsoñ

68. Add To Favorites Share this
collage ke sab bachche chup haiñ kāġhaz kī ik naav liye

69. Add To Favorites Share this Tag: berozgari
dostī jab kisī se kī jaa.e

70. Add To Favorites Share this Tags: dost and 3 more
ek hī naddī ke haiñ ye do kināre dosto
dostāna zindagī se maut se yaarī rakho

Read More  Happy PATRIOTS Day in US 2019 | Everything You Need To Know!

71. Add To Favorites Share this See Ghazal
ghar ke bāhar DhūñDhtā rahtā huuñ duniyā
ghar ke andar duniyā-dārī rahtī hai

72. Add To Favorites Share this See Ghazal Tag: duniya
ham se pahle bhī musāfir ka.ī guzre hoñge

73. Add To Favorites Share this See Ghazal
ḳhayāl thā ki ye pathrāv rok deñ chal kar

74. Add To Favorites Share this See Ghazal
maiñ aa kar dushmanoñ meñ bas gayā huuñ

75. Add To Favorites Share this See Ghazal Tag: dushman
maiñ āḳhir kaun sā mausam tumhāre naam kar detā

76. Add To Favorites Share this See Ghazal
maiñ ne apnī ḳhushk āñkhoñ se lahū chhalkā diyā

77. Add To Favorites Share this See Ghazal Tag: pani
maiñ parbatoñ se laḌtā rahā aur chand log
giilī zamīn khod ke farhād ho ga.e

78. Add To Favorites Share this
maza chakhā ke hī maanā huuñ maiñ bhī duniyā ko
samajh rahī thī ki aise hī chhoḌ dūñgā use

79. Add To Favorites Share this See Ghazal
mirī ḳhvāhish hai ki āñgan meñ na dīvār uThe
mire bhaa.ī mire hisse kī zamīñ tū rakh le

80. Add To Favorites Share this See Ghazal
na ham-safar na kisī ham-nashīñ se niklegā
hamāre paañv kā kāñTā hamīñ se niklegā

91. Add To Favorites Share this See Ghazal Tags: kanta and 1 more
na.e kirdār aate jā rahe haiñ
magar nāTak purānā chal rahā hai

92. Add To Favorites Share this See Ghazal Tag: siyasat
roz patthar kī himāyat meñ ġhazal likhte haiñ
roz shīshoñ se koī kaam nikal paḌtā hai

93. Add To Favorites Share this See Ghazal
roz tāroñ ko numā.ish meñ ḳhalal paḌtā hai
chāñd pāgal hai añdhere meñ nikal paḌtā hai

94. Add To Favorites Share this See Ghazal
shāḳhoñ se TuuT jaa.eñ vo patte nahīñ haiñ ham

95. Add To Favorites Share this
shahr kyā dekheñ ki har manzar meñ jaale paḌ ga.e

96. sūraj sitāre chāñd mire saat meñ rahe
jab tak tumhāre haat mire haat meñ rahe

97. Add To Favorites Share this Tag: mohabbat
us kī yaad aa.ī hai sāñso zarā āhista chalo
dhaḌkanoñ se bhī ibādat meñ ḳhalal paḌtā hai

98. Add To Favorites Share this See Ghazal Tags: famous shayari and 4 more
vo chāhtā thā ki kaasa ḳharīd le merā
maiñ us ke taaj kī qīmat lagā ke lauT aayā

99. Add To Favorites Share this
ye havā.eñ uḌ na jaa.eñ le ke kāġhaz kā badan
dosto mujh par koī patthar zarā bhārī rakho

100. Add To Favorites Share this See Ghazal
ye zarūrī hai ki āñkhoñ kā bharam qaa.em rahe
niiñd rakkho yā na rakkho ḳhvāb meyārī rakho sūraj sitāre chāñd mire saat meñ rahe

 

Rate this post