Whatsapp Status: 10,000 Best Hindi Status

मांग लूँ यह मन्नत की फिर यही जहाँ मिले, फिर वही गोद फिर वही माँ मिले.

आँधियाँ गम की चलेगी तो भी सँवर जाऊँगा, मैं तो दरिया हूँ समुद्र में भी उतर जाऊँगा

कुछ नही मिलता दुनिया में मेहनत के बगैर 😎 मेरा अपना साया मुझे धूप में आने के बाद मिला 😊 😊

यह दुनिया बिलकुल वैसी ही है जैसे आप देखना चाहते हैं, चाहे तो कीचड़ में कमल देख लो चाहे देख लो चाँद पर दाग

सादगी अगर हो लफ्जो मे, यकीन मानो,प्यार बेपनाह,और दोस्त बेमिसाल मिल ही जाते हैं।

सफल इंसान वो ही है जिसे टूटे को बनाना और रूठे को मनाना आता है।

सारे साथी काम के सबका अपना मोल, जो संकट में साथ दे वो है सबसे अनमोल

ख़्वाहिशों की चादर तो कब की तार तार हो चुकी, देखते हैं वक़्त की रफ़ूगिरी, क्या कमाल करती है।

हजारों गम हो फिर भी मैं खुशी से फूल जाता हूँ, जब हंसती मेरी मां, मैं हर गम भूल जाता हूँ।

बदल रही हे जिंदगी, बदल रहे हे अन्दाज जीने के, बदल रहे हे लोग, खंजर छुपाये बेठे है अपने भी अपने सीने मे

कितने बदल गये है आज के रिश्तें भी, चंद मुस्कान के लिये चुटकुले सुनाने पड़ते है

मैं दुनिया से लड़ सकता हूँ पर अपनो के सामने लड़ नहीं सकता, क्योंकि अपनो के साथ मुझे ‘जीतना’ नहीं बल्कि ‘जीना’ है!

जीवन में नफरतों में क्या रखा है,मोहब्बत से जीना सीखो, क्यूंकि यारों ये दुनिया न तो मेरा घर है और न तुम्हारा ठिकाना

तुम परवाह करना छोड़ दो लोग Hurt करना छोड़ देंगे।

मूर्खों से तारीफ सुनने से अच्छा है कि आप बुद्धिमान इन्सान से डाँट सुनले।

बनावटी लोगो से सावधान: पहले तो रो -रो कर आपके दर्द पूछेंगे फिर हँस -हँस कर लोगों को बताएंगे।

साझेदारी करो तो किसी के दर्द के साथ, क्योंकि खुशियों के दावेदार तो बहुत हैं।

मौसम बहुत सर्द है,चल ए दोस्त, गलत फहमियो को आग लगाते है।

मिट्टी का मटका और परिवार की कीमत सिर्फ बनाने वाले को पता होती है, तोड़ने वाले को नहीं।

रात की मुट्ठी में, एक सुबह भी है, शर्त है कि पहले, जी भर के अँधेरा तो देख।

एक अच्छे चरित्र का निर्माण हज़ारों बार ठोकर खाने के बाद ही होता है।

तुम्हारे हर सवाल का जवाब मेरी आँखों में था और तुम मेरी जुबान खुलने का इंतज़ार करते रहे।

बस ज़रा स्वाद में कड़वा है, नहीं तो सच का कोई जवाब नहीं।

सिर्फ ख़ुशी में आना तुम, अभी दूर रहो थोड़ा परेशान हूँ मैं

उड़ने में बुराई नहीं है, लेकिन उतना ही ऊँचा उड़े जहाँ से ज़मीन साफ़ दिखाई दे

जो व्यक्ति अपने बारे में नहीं सोचता, वो सोचता ही नहीं है

रिश्ते मोतियों की तरह होते होते हैं, कोई गिर भी जाये तो झुख कर उठा लेना चाहिए

आप भले अपनी जिंदगी से खुश नहीं हो पर कुछ लोग ऐसे भी है जो आप जैसी जिंदगी जीने के लिए तरसते है

शतरंज मे वज़ीर, और ज़िंदगी मे ज़मीर, अगर मर जाए तो खेल ख़त्म समझिए

ज़िन्दगी इतनी मुश्किल इसलिए है,क्यूंकि लोग आसानी से मिली चीज की कीमत नहीं जानते

पर्दा गिरते ही खत्म हो जाते हैं तमाशे सारे, खूब रोते हैं फिर औरों को हँसाने वाले

दिल के रिश्ते कभी नहीं टूटते, बस खामोश हो जाते है

जिसे ‘मैं’ की हवा लगी, उसे फिर ना दवा लगी न दुआ लगी।

दुनियादारी सिखा देती है ‘मक्कारियां’ वरना पैदा तो हर कोई साफ दिल का होता है।

इस कदर बँट गए हैं ज़माने में सभी, अगर “भगवान” भी आकर कहे कि मैं भगवान् हूँ, तो लोग पूछ बैठेंगे किसके?

नाज़ुक लगते थे जो हसीन लोग, वास्ता पड़ा तो पत्थर के निकले।

जज़्बात अपने हो तभी जज़्बात है, दुसरे के जज़्बात तो खिलौना है।

ना जाने कौन से गुनाह कर बैठे हैं। … जो तमन्नाओं की उम्र में तज़ुर्बे मिल रहे हैं।

ज़रा मुस्कराना भी सिखा दे ज़िन्दगी, रोना तो पैदा होते ही सीख लिया था।

कमाल का ताना दिया आज मंदिर में भगवान ने, मांगने ही आते हो कभी मिलने भी आया करो

कितनी अजीब बात है हमारी आँखें है तो Black & White पर ख्वाब रंगीन देखती हैं

आपके पास जितना समय है वो अभी है इससे अधिक समय कभी नहीं होगा।

वफ़ा सबसे करो मगर वफ़ा की उम्मीद किसी से ना करो।

गलत होकर भी खुद को सही साबित करना, उतना मुश्किल नहीं होता, जितना कि, सही होकर खुद को सही साबित करना

लफ्ज़ इन्सान के गुलाम होते हैं, मगर बोलने से पहले, और बोलने के बाद इन्सान अपने लफ़्ज़ों का गुलाम बन जाता है

कुछ लोग मुझे अपना कहते थे, सच में सिर्फ कहते ही थे

बातें तो हर कोई समझ लेता है पर वो इंसान चाहिए जो मेरी ख़ामोशी को समझे

इंसान की ख़ामोशी का मतलब ये है कि वो टूट चूका है

कुछ बातें तब तक समझ नहीं आती जब तक खुद पर न गुजरे

अकेले रहने में और अकेले होने में फर्क होता है 😢

मेरी माँ ने मुझे माफ़ करना सिखाया है, बदला लेना नहीं

यूँ गुमसुम मत बैठो ..पराये लगते हो, मीठी बातें नहीं है तो चलो झगड़ा ही कर लो

आदमी को अमीर नहीं होना चाहिए, बल्कि आदमी 😌 का जमीर होना चाहिए। 😌 😌

अपने खिलाफ बातों को अक्सर मैं ख़ामोशी से सुनता हूँ क्योकि जवाब देने का हक़, मैंने वक़्त को दे रखा है

कदर करने वाले लोगों को, हमेशा बेकदर लोग ही मिलते हैं। 😪 😪

जो आपकी ख़ुशी के लिए हार मान ले, आप उसे से कभी जीत नहीं सकते 😊 😊

असफलता की इमारत बहाने की नींव पर बनती है

हम खुद को इतना बदल देंगे एक दिन, कि लोग तरस जायेंगे 😊 हमें पहले की तरह देखने के लिए!

वक्त निकाल कर अपनों से मिल लिया करो, अगर अपने ही ना होंगे तो, क्या करोगे वक्त का?

ज़िंदगी चाहे एक दिन की हो या चाहे चार दिन की, उसे ऐसे जियो 😉 जैसे कि ज़िंदगी तुम्हें नहीं मिली, ज़िंदगी को तुम मिले हो।

चेहरे बदल-बदल कर मिलते है लोग मुझसे, इतना बुरा सुलूक क्यूँ मेरी सादगी के साथ

मेरी ‪खामोशियों‬ में भी ‪फसाना‬ ‪‎ढूँढ‬ लेती है,बड़ी ‪शातिर‬ है ‪‎दुनिया‬ ‪मजा‬ लेने का ‪बहाना‬ ढ़ूँढ ‪लेती‬ है

मुझे हमदर्दी नहीं, थोडा सा अपनापन चाहिए दरसल खो सा गया हूँ, अपनो की ही भीड में 😑😑😢😢

आशियाने बनें भी तो कहाँ जनाब,जमीनें महँगी 💵 हो चली हैं और दिल ❤ में लोग जगह नहीं देते

मिले 👰 तो BEST 👌 नहीं 😶 तो NEXT 😎 LIFE मे ये Formula रखोगे तो कभी भी Feeling Sad 😪 वाले Status नहीं रखने पड़ेंगे

अब अपनी शख्सियत की भला मैं क्या मिसाल दूँ यारों, ना जाने कितने लोग मशहूर हो गये, मुझे बदनाम करते करते

लोग भी बड़े अजीब होते है, गलत साबित होने से पहले माफ़ी नहीं मांगते, बल्कि तालुक तोड़ देते है

मै 👨 फिर याद 😭 आऊंगा उस 👆 दिन 📝 जब तेरे ही बच्चे 👶 कहेंगे-मम्मी 👩 आपने कभी किसी 👤 से प्यार 👫 किया?

चूक जाये वो वार कैसा, जीत कर हार जाये वो खिलाडी कैसा, और अपनी बात लोगो तक ना पहुँचा सके वो शायर कैसा

ताश में जोकर 😛 ओर चाहत 😘 की ठोकर, अकसर बाजी घूमा देते हैं 😎 😎 😎

लोग बदलते नहीं है जनाब, बेनक़ाब, होते हैं।

दो चार नहीं, मुझे सिर्फ एक दिखा दो, 😐 वो शख्स, जो अन्दर भी बाहर जैसा हो, 😏 😏

निगाहों में मंज़िल थी, गिरे और गिर कर संभलते रहे, हवाओं ने तो बहुत कोशिश की, मगर चिराग आँधियों में भी जलते रहे 😇 😇

जलो वहाँ जहाँ जरूरत हो, उजालों में चिरागों के कोई मायने नहीं होते।

चेहरे 👩 पर जो अपने दोहरी नकाब रखता हैं, खुदा उसकी चलाकियों का हिसाब रखता हैं

गुनहगारों की आँखों में झूठे ग़ुरूर होते हैं, 👿 👿 यहाँ शर्मिन्दा तो सिर्फ़ बेक़सूर होते हैं! 😫 😫

अब कहां दुआओं में वो बरक्कतें, वो नसीहतें, वो हिदायतें, अब तो बस जरूरतों का जलूस हैं, मतलबों के सलाम हैं

ये दुनिया अक्सर उन्हें सस्ते में लूट लेती है, खुद की क़ीमत का जिन्हें अंदाजा नहीं होता

कुछ मीठी सी ठंडक है आज इन हवाओं में, शायद दोस्तो की यादों का कमरा खुला रह गया है

फलक की भी जिद है जहाँ बिजली गिराने की, हमारी भी जिद है वहीं आशियां बनाने की

बस इतना ही चाहिये तुजसे ऐ जिंदगी, कि जम़ीन पर बैठूँ तो लोग उसे मेरा बडप्पन कहें, औकात नहीं

मैं हिंदी बोलता हूँ, इसलिए आप “आप” हैं, वरना कब के “You” हो गए होते

न जाने इतनी ‪मोहब्बत‬ कहाँ से आ गयी उस ‪अजनबी‬ के लिए..!! की मेरा ‪दिल‬ भी उसकी खातिर अक्सर मुझसे रूठ जाया करता हे ..!!

अकल आयी थी मशवरा देने , मोहब्बत ने मुस्करा कर टाल दिया।

तयशुदा मुलाक़ातों में वो बात नहीं बनती, क्या ख़ूब था राहों में अचानक सामने से आना तेरा

कुछ लोग इतने ढीठ होते हैं कि जितना मर्जी उनको भाड़ में भेज दो वापिस आ ही जाते हैं।

ज़िन्दगी भी कितनी अजीब है, मुस्कुराओ तो लोग जलते है, तन्हा रहो तो सवाल करते है

कमाल करता है, ऐ दिल ❤ तू भी, उसे फुरसत नहीं और तुझे चैन नहीं!

4.8 (96%) 5 votes